पूर्व विधायक बंबर के बेटे ने दूसरी बार तोड़ा नाका, बैरिकेड उड़ाया

बंबर ठाकुर के बेटे की नाका तोड़ने वाले समय की तस्वीर जो दैनिक जागरण में प्रकाशित हुई थी। इसमें चेहरे को अख़बार ने ही छिपाया है।

बिलासपुर।। बिलासपुर सदर से कांग्रेस के पूर्व विधायक बंबर ठाकुर के बेटे पर एक हफ़्ते के अंदर दूसरी बार कोरोना के चलते लगाए गए कर्फ़्यू को तोड़ने को लेकर एफआईआर दर्ज की गई है। इस बार तो नाका तोड़ते समय रात को बैरिकेड तक को टक्कर मार दी गई। घुमारवीं पुलिस ने नाका तोड़कर भागने को लेकर अज्ञात लोगों के ख़िलाफ़ आईपीसी की धारा 186, 188 और 34 के तहत मामला दर्ज किया है। जागरण ने ख़बर दी है कि इस कार पर बिलासपुर सदर के पूर्व विधायक बंबर ठाकुर का बेटा सवार था।

नाका तोड़ने का यह मामला पूरे इलाक़े में चर्चा का विषय बन गया है क्योंकि एक बार बंबर ठाकुर की कार से चरस मिल चुकी है और उस कार में उनका बेटा भी सवार था। ऐसे में सवाल यह पूछा जा रहा है कि कर्फ्यू के दौरान इधर-उधऱ घूमने की क्या जरूरत आन पड़ी है और कानून का भी डर क्यों नहीं हैं?

क्या है ताज़ा घटनाक्रम
पुलिस टीम ने चौक पर नाकेबंदी की थी। देर रात एक कार पनोह सड़क की तरफ़ से आई जिसे रोककर ड्राइवर का नाम पूछा गया। अंदर से सही जवाब नहीं आया। पूछताछ जारी ही थी कि चालक कार को भगाकर ले गया। इस दौरान टक्कर से बैरिकेड भी पलट गया।

डीएसपी घुमारवीं राजेंद्र जमवाल ने बताया है कि लॉकडाउन का उल्लंघन करने पर पुलिस ने मामला दर्ज करके जाँच शुरू कर दी है। उन्होंने बताया कि गाड़ी का नंबर पता कर लिया गया है और जल्द ही संदिग्धों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

क्या बोले बिलासपुर के एसपी
बिलासपुर के एसपी दिवाकर शर्मा का कहना है, “पूर्व विधायक के बेटे के ख़िलाफ़ बिलासपुर ज़िले में एक हफ़्ते के अंदर यह दूसरी एफआईआऱ दर्ज हुई है क्योंकि वह कर्फ़्यू का उल्लंघन कर रहे हैं। उन्होंने मौक़े पर तैनात पुलिसकर्मियों की ड्यूटी में भी बाधा उत्पन्न की।”

इससे पहले भी पूर्व विधायक के बेटे ने ऐसा ही किया था। इस संबंध में एक तस्वीर भी प्रकाशित हुई थी। मार्च के आख़िरी हफ़्ते में बिलासपुर जिला मुख्यालय में बंबर ठाकुर का बेटा अपने साथी के साथ कार पर सवार था। पुलिस ने गाड़ी रोकने की कोशिश की तो भाग निकला। उस समय भी विभिन्न धाराओं में केस दर्ज हुआ था।

पूर्व विधायक के बेलगाम बेटे
जून, 2018 बंबर ठाकुर की गाड़ी से चरस के साथ चार लोग पकड़े गए थे। इस कार को उनका बेटा चला रहा था जो नाबालिग था। तीन अन्य कार सवार बालिग थे। नाबालिग के ख़िलाफ़ जुवेनाइल एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया था जबकि बाकियों के ख़िलाफ़ एनडीपीएल एक्ट के तहत। पूरी ख़बर आगे दिए लिंक पर पढ़ें-

कांग्रेस के पूर्व MLA बंबर ठाकुर की गाड़ी से आधा किलो चरस बरामद

धमकाने और गुंडागर्दी के आरोप
फ़रवरी, 2017 जब राज्य में कांग्रेस की सरकार थी, तब कांग्रेस विधायक बंबर ठाकुर के बेटे अनिल उर्फ़ पिंटू पर गुंडागर्दी के आरोप लगे थे। उससे पहले एक डॉक्टर को धमकाने के आरोप भी लग चुके थे। फ़रवरी 2017 में बिलासपुर में खूब हंगामा हुआ। पिंटू पर आरोप था कि उन्होंने सब्ज़ी विक्रेताओं पर हमला किया। स्थानीय लोगों ने आरोप लगाया था कि विधायक का बेटा स्मगलिंग के लिए अपने पिता की लाल बत्ती वाली गाड़ी इस्तेमाल करता है। (पढ़ें खबर)

हमलावरों को जमानत मिलने पर विरोध कर रहे लोगों ने कथित तौर पर पथराव किया था जिसके बाद पुलिस को लाठियों का इस्तेमाल करना पड़ा था। उस दौरान बंबर ठाकुर पर अपने बेटे को गाड़ी में बिठाकर भगाने का आरोप लगा था। उस दौरान क्या हुआ था, पूरा घटनाक्रम पढ़ने के लिए आप आगे दिए गए लिंक पर टैप कर सकते हैं।

बिलासपुर से कांग्रेस विधायक बंबर ठाकुर के बेटे पर गुंडागर्दी के आरोप

उस समय इस घटना को लेकर विभिन्न अख़बारों और टीवी चैनलों में क्या जानकारी दी गई थी, विस्तार से पढ़ने के लिए आगे दिए गए लिंक पर क्लिक कर सकते हैं-

बिलासपुर प्रकरण: क्या है कांग्रेस MLA बंबर ठाकुर के बेटे की भूमिका?

SHARE