सरकारी स्कूलों में छेड़छाड़ और जातीय भेदभाव करने वाले शिक्षक होंगे बर्खास्त

धर्मशाला।। हिमाचल विधानसभा में शीतकालीन सत्र के तीसरे दिन सदन की कार्यवाही शांतिपूर्ण ढंग से चली। आज बिना विपक्ष के हंगामे के पहली बार प्रश्नकाल चला। प्रश्नकाल के समाप्त होते ही विपक्ष के नेता मुकेश अग्निहोत्री ने मुख्यमंत्री व शिक्षा मंत्री से पूछा कि सरकारी स्कूलों में बच्चियों से छेड़छाड़ की घटनाएं बढ़ रही है।

ताज़ा मामला हरोली का है जहां 13 बच्चियों ने शिक्षक पर छेड़छाड़ के आरोप लगाए है। मुख्यमंत्री के क्षेत्र में मिड डे मील में बच्चों को अलग बिठाने का मामला आया है। ऐसे मामलों में सरकार दोषी शिक्षकों के खिलाफ सीधा कार्यवाही कर बर्खास्त करें।

जबाब में शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज ने बताया कि ऐसे मामले स्कूलों में बढ़ते जा रहे है। जो चिंता का विषय है। सरकार आर्टिकल 3(11) के तहत ऐसे शिक्षकों को बर्खास्त करेगी। शिक्षा मंत्री ने सभी से अपील की की ऐसे शिक्षकों की शिफारिश लेकर कोई उनके पास नही आए। ऐसे मामलों में अवार्डी विधायक भी शामिल है। ऐसे शिक्षकों के खिलाफ सख्त कार्यवाही की जाएगी।

ताज़ा घटनाओं का जिक्र करते हुए शिक्षा मंत्री ने बताया कि इनकी जांच के आदेश दे दिए गए हैं। जबकि हरोली मामले में दोषी शिक्षक को निलंबित कर दिया गया है।

उधर मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने भी स्कूलों में बढ़ती छेड़छाड़ की घटनाओं पर चिंता जाहिर की ओर कहा कि ऐसे मामलों में संलिप्त पाए जाने वाले शिक्षकों को किसी भी हाल में नही बख्शा जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि उनके क्षेत्र में जातीय भेदभाव का जो मामला सामने आया है उसकी जांच के आदेश दे दिए गए है व जांच रिपोर्ट मांगी गई है।

SHARE