ऊना: क्वॉरन्टीन रहे युवक ने की ख़ुदकुशी, नेगेटिव थी रिपोर्ट

दो मई को लिया गया सैंपल

ऊना।। ऊना ज़िले में एक युवक ने कथित दुर्व्यवहार के चलते ख़ुदकुशी कर ली। यह युवक दिल्ली में तबलीगी जमात के मरकज से लौटे एक शख़्स के संपर्क में आया था, जिसके बाद इसे क्वॉरन्टीन कर दिया गया था। टेस्ट में जब इसे कोरोना से संक्रमित नहीं पाया गया तो घर छोड़ दिया गया। इसके एक दिन बाद ही इसने फाँसी लगाकर ख़ुदकुशी कर ली।

बानगढ़ गाँव के 37 साल के मोहम्मद दिलशाद को लेकर हिमाचल पुलिस के महानिदेशक सीताराम मरडी ने कहा, “कुछ लोगों ने कहा था कि यह शख्स कोविड-19 से पीड़ित है। उसे पृथकवास में रखा गया और जांच में उसे संक्रमित नहीं पाया गया। जब वह गांव लौटा तो उसके साथ भेदभाव हुआ और गांव वालों ने उसका सामाजिक बहिष्कार कर दिया। इस पर उसने खुदकुशी कर ली।”

हालाँकि, इलाक़े के थाना प्रभावी का कहना है कि इन आरोपों की जाँच की जा रही है कि युवक से ग्रामीणों से भेदभाव किया था या नहीं। उनका कहना है कि ऐसी कोई बात जाँच के दौरान अब तक सामने नहीं आई है और न ही परिजनों की ओर से ऐसी शिकायत आई है।

ऐसे में हो सकता है कि कोरोना की दहशत और इस माहौल के कारण बने तनाव में आकर युवक ने ऐसा कदम उठा लिया। डीजीपी हिमाचल ने लोगों से अपील की है कि सोशल डिस्टैंसिंग का मतलब किसी से दुर्व्यवहार करना या भेदभाव नहीं है। उन्होंने कहा कि लोग सौहार्द्र बनाए रखें।

इन हिमाचल के लिए अपनी मर्ज़ी से कुछ भी डोनेट कीजिए

आप जानते हैं कि ‘इन हिमाचल’ किसी भी सरकार, संगठन, कंपनी, पार्टी या व्यक्ति से सीधे विज्ञापन नहीं लेता। इससे हमें अपने कॉन्टेंट को स्वतंत्र और निष्पक्ष बनाए रखने में मदद मिलती है। अगर आपको इन हिमाचल का काम पसंद है तो नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके अपनी मर्ज़ी से कुछ भी रक़म हमें डोनेट करें ताकि इसी तरह से आगे भी हम इस स्वतंत्र पोर्टल को चलाए रखें और अच्छा कॉन्टेंट आप तक पहुँचाते रहें।

डोनेट करने के लिए यहाँ पर टैप या क्लिक करें

‘इन हिमाचल’ पिछले 6 सालों से हिमाचल प्रदेश में न्यू मीडिया के माध्यम से स्वतंत्र पत्रकारिता कर रहा है।  आपका छोटा सा सहयोग भी हमारी टीम के लिए बड़ा प्रोत्साहन होगा।

हिमाचल में एक और जमाती निकला पॉज़िटिव, 14 हुए कुल केस

SHARE