पुलिस भर्ती में धांधली: डीडब्ल्यू नेगी ने बढ़ा दी थी अभ्यर्थी की हाइट

शिमला।। हिमाचल प्रदेश पुलिस की छवि को और नुकसान पहुंचाने वाली एक खबर सामने आई है। वीरभद्र सरकार के चहेते और गुड़िया कांड के दौरान शिमला के एसपी रहे डीडब्ल्यू नेगी को पुलिस भर्ती में धांधली के मामले में विभागीय जांच में दोषी पाया गया है। इन दिनों नेगी गुड़िया केस में एक संदिग्ध की हिरासत में मौत के मामले में जेल में बंद हैं। वीरभद्र सरकार ने जिस समय नेगी को एसपी बनाया था, उस समय चर्चा थी कि वह शिमला के एसपी बनने वाले पहले एचपीएस अधिकारी हैं जबकि उनसे पहले के सभी एसपी आईपीएस थे।

क्या है मामला
कुछ अभ्यर्थियों ने शिकायत की थी कि पुलिस भर्ती में धांधली हुई थी। इसके बाद हाई कोर्ट ने इस मामले का संज्ञान लिया था और विभागीय जांच के आदेश दिए थे। उस समय राज्य के डीजीपी रहे सोमेश गोयल के नेतृत्व में बनी कमेटी ने जांच की थी। अब जांच रिपोर्ट में डीडब्ल्यू नेगी को दोषी पाया गया है। इसके साथ ही मेडिकल करने वाले डॉक्टर पर भी आरोप तय करने की सिफारिश कमेटी ने की है।

‘तीन इंच बढ़ा दी हाइट’
आरोप है कि पुलिस कॉन्स्टेबल भर्ती के दौरान एसपी डीडब्ल्यू नेगी ने एक अभ्यर्थी की ऊंचाई तीन इंच बढ़ाकर नोट की, जिससे वह भर्ती हो गया। इसपर एक अन्य युवक ने इस चयन को चुनौती दे दी थी। जांच में सामने आया है कि शिमला में होमगार्ड कोटे के इस युवक का कद कम था। मापे जाने पर युवक का कदम तय मापदंड से कम मिला। इस युवक के परफॉर्मा पर मेडिकल कर रहे डॉक्टर के भी हस्ताक्षर थे।

इस भर्ती में कुछ और युवकों का कद भी गलत मापने की जांच सामने आई है।

Comments

comments

LEAVE A REPLY